अधूरे, अनुपयोगी एवं खुले नलकूप-बोरवेल में गिरने से होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए अधिकारी करें सख्त कार्रवाई: कलेक्टर

कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी श्री नरेन्द्र कुमार सूर्यवंशी ने अनुपयोगी एवं खुले नलकूप, बोरवेल तथा ट्यूबवेल में छोटे बच्चों के गिरने से होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए अधिकारियों से कहा कि गंभीरता पूर्वक सख्ती से कदम उठाएं।
उल्लेखनीय है कि भूमिगत स्रोत से जल प्राप्त करने हेतु नलकूपों का खनन कार्य किया जाता है। नलकूप खनन के दौरान जिन नलकूपों में जल आवक क्षमता अनुमान के अनुसार प्राप्त नहीं होती है तो खनन ऐजेंसी, ठेकेदार, व्यक्तियों द्वारा उक्त बोरवेल को

सुरक्षित किए बिना खुला छोड़ दिया जाता है। ऐसे में कई बार बच्चों के गिरने की दुखद घटनाएं भी हुई है। अनुपयोगी एवं खुले नलकूप, बोरवेल तथा ट्यूबवेल में छोटे बच्चों के गिरने से होने वाली दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा भी सुरक्षा उपाय तथा गाइडलाइन जारी की गई है।
एमपीएसईडीसी पोर्टल पर पंजीयन कराना आवश्यक
जिले में नलकूपों की मॉनिटरिंग हेतु नलकूपों, नलकूप खनन करने वाली एजेंसी, मशीन तथा नलकूप खनन कराने वाले विभाग/संस्थाओं/व्यक्तियों की जानकारी को ट्रैक करने हेतु

एमपीएसईडीसी पोर्टल पर पंजीयन कराना आवश्यक होगा। इस पोर्टल पर नलकूप खनन कर्ता/एजेंसी द्वारा नलकूप खनन संबंधी जानकारी दर्ज की जाएगी। पोर्टल का अनुश्रवण एवं उपयोग जिला कलेक्टर, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, नगरीय विकास एवं आवास विभाग एवं अन्य विभागों द्वारा किया जाएगा। नगरीय निकायों तथा जिला, जनपद, ग्राम पंचायतों को नलकूप खनन से संबंधित जानकारी का पोर्टल पर नियमित अनुश्रवण करना होगा।
खुले नलकूपों को कवर करना आवश्यक

नलकूप खनन करने के पूर्व खनन करता को आवश्यक है कि वह नलकूप खनन की सूचना पोर्टल पर दर्ज कराए। पोर्टल पर जानकारी प्राप्त होने पर यह सुनिश्चित किया जाएगा कि खनन उपरांत संबंधित व्यक्ति/संस्था/विभाग द्वारा नलकूप के ऊपर हैंडपंप/सबमर्सिबल पंप स्थापित कर दिया गया है तथा यदि नलकूप में जल आवक क्षमता प्राप्त नहीं होती है या कम प्राप्त होती है

Get real time updates directly on you device, subscribe now.