हत्या का आरोपी गिरफ्तार, आमला पुलिस की त्वरित कार्यवाही, “
घटना दिनाँक 21/11/2021 को फरियादिया कु. पायल पिता गणेश मोरले नि. बोड़खी आमला ने इस आशय की रिपोर्ट लिखवाई कि उसका चचेरा भाई मुनेन्द्र उर्फ शुभम मोरले घर के सामने रोड़ पर खड़े होकर चाची सावित्री बाई से बातचीत कर रहा था तभी घर के सामने रहने वाला पंकज जगदेव लट्ठ लेकर आया और तू यहाँ क्या कर रहा है बोलकर अचानक से लट्ठ से मुनेन्द्र के सिर मे मारा जिससे वह नीचे रोड़ पर गिर गया तो ऊपर से और भी लट्ठ से मारने लगा। परिजनों ने बीच बचाव कर मुनेन्द्र को तुरंत आटो से शासकीय अस्पताल आमला इलाज के लिये लेकर आये। जहाँ डाक्टर ने मुनेन्द्र की मृत्यु हो जाना बताया। फरियादिया की रिपोर्ट पर आरोपी पंकज जगदेव के खिलाफ थाना आमला मे अप.क्र. 842/21 धारा 302, 323 भादवि का प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया तथा तत्काल घटना की सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई। श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय बैतूल सुश्री सिमाला प्रसाद के द्वारा प्रकरण की गंभीरता को दृष्टीगत रखते हुये तत्काल आरोपी को गिरफ्तार करने हेतु निर्देशित किया गया। श्रीमान अति. पुलिस अधीक्षक महोदय बैतूल श्री नीरज सोनी के निर्देशन में श्रीमान एसडीओपी महोदय मुलताई सुश्री नम्रता सोधिया के द्वारा पुलिस थाना आमला की टीम गठित कर आरोपी की तलाश हेतु रवाना किया गया। पुलिस द्वारा तत्परता पूर्वक कार्यवाही करते हुये आरोपी पंकज जगदेव की तलाश की तलाश की गई। आरोपी के घर पर ताला लगा हुआ पाया गया किन्तु उसके पिता के निर्माणाधीन मकान के पीछे के कमरे की तलाशी ली गई तो वहाँ कमरे मे रखे सेंट्रिग सामान के पीछे आरोपी पंकज जगदेव छिपा हुआ मिला। आरोपी पंकज जगदेव को तुरंत अभिरक्षा मे लेकर पूछताछ की गई तो उसने बताया कि मृतक मुनेद्र मोरले उसे अक्सर चिढ़ाता था और उसे देखकर हंसता था तथा घर के सामने कचरा भी फेंक देता था। जिससे वह मानसिक रूप से काफी परेशान होकर गया था इसलिये दिनाँक 21/11/2021 को शाम 04.15 बजे करीब जब मुनेन्द्र उसके घर के सामने खड़े होकर हंस रहा था जिससे गुस्सा आ गया और जान से मारने की नियत से सिर मे लट्ठ मार दिया जिससे मुनेन्द्र की वहीं रोड़ पर ही मृत्यु हो गई। आरोपी पंकज जगदेव के खिलाफ साक्ष्य होने से गिरफ्तार कर घटना मे प्रयुक्त बाँस का एक लट्ठ बरामद कर लिया गया है तथा आरोपी को दिनाँक 06/12/2021 तक न्यायिक अभिरक्षा में उपजेल मुलताई दाखिल कराया गया है।
उक्त प्रकरण मे तत्परतापूर्वक कार्यवाही कर आरोपी को गिरफ्तार करने मे निरी. संतोष पन्द्रे, उनि. हेमन्त पाण्डे, सउनि. आर.एस. रघुवंशी, प्रआर. मनोज डेहरिया, प्रआर. सुखराम, आर. विनय प्रताप सिंह, आर. नितेश, सैनिक रामराव, सैनिक विजय की भूमिका रही।