सिर दर्द क्या है तथा इसके लक्षण, कारण और इसकी प्राकृतिक चिकित्सा और सिर दर्द होने पर कौन से योगासन करना चाहिए यही सब जानने वाले हैं आज की इस वीडियो में तो आइए सबसे पहले जानते है की सिर दर्द क्या है।

सिर दर्द आम रोगों में से एक है। यह रोग किसी भी प्रकृति के व्यक्ति को किसी भी कारण से हो सकता है। लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा है कि बार-बार सिरदर्द होने के पीछे कारण क्या है? क्या सिर दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है? जीवनशैली और खान-पान सिर दर्द होने का सबसे बड़ा कारण बन चुका है, कम समय में ज्यादा पाने की इच्छा, खराब लाइफस्टाइल और टेक्नोलॉजी का ज्यादा इस्तेमाल सिरदर्द को जन्म दे रहा है। आम तौर पर लोग सिर दर्द से राहत पाने के लिए सबसे पहले घरेलू नुस्ख़ों को ही अपनाते हैं जिससे जल्दी और आसानी से आराम मिल जाये।


सिर दर्द के घरेलू नुस्ख़े असरदार भी होते है और इनका सेवन अगर सही तरीके से और संतुलित मात्रा में किया जाय तो इनका साइड इफेक्ट भी कम होता है और सिर दर्द से छुटकारा पाने में आसानी होती है। इसलिए लोग डॉक्टर के पास जाने से पहले सिर दर्द से छुटकारा या आराम पाने के लिए घरेलू नुस्ख़े या आयुर्वेदिक उपचारों का सहारा लेते हैं।

सिर दर्द होने के कारण

सिर दर्द आम बीमारी तो है लेकिन इसके होने के पीछे बहुत से कारण हो सकते है जैसे कि बहुत मिर्च और मसालेदार खाना खाने से, बहुत देर तक भूखे रहने , जंक फूड खाने से पेट में जलन व गैस बनने से और गैस ज्यादा देर तक खाली पेट रहने से अधिक बनती है उन्हें सिर दर्द की परेशानी बहुत ज्यादा सतातीहै है ऐसे मे उस खाने से बचना चाहिए जो एसिड बनाते हो यही सब कारण होते है सिर दर्द के या फिर खाना खाने के बाद तुरन्त लेट जाने से गैस्टिक समस्या होती है जिसके कारण से भी सिर दर्द होता है इसलिए हमे खाना खाने के तुरंत बाद लेटना नही चाहिए।
तेज महक या किसी भी खुशबु से एलर्जी हो सकती है, जिस प्रकार के खुशबू से परेशानी हो उससे दूर रहने की कोशिश करनी चाहिए। सिर दर्द से छुटकारा पाने के लिए खुशबू पर भी ध्यान रखना जरूरी होता है।

ज्यादा ठण्डे पदार्थों के सेवन से भी सिर दर्द होता है क्योंकि ज्यादा ठण्डे पदार्थों के सेवन से शरीर में blood का प्रवाह ठीक प्रकार से नहीं हो पाता तथा ठण्ड के कारण सिर की नसें सिकुड़ जाती हैं जो सिर दर्द होने का कारण बन जाती है। इसीलिए सिर दर्द से छुटकारा पाने के लिए ज्यादा ठंडा खाना भी नही खाना चाहिए।
जब शरीर में पानी की मात्रा कम हो जाती है तो शरीर के अन्दर के विषाक्त तत्व शरीर से बाहर नहीं निकल पाते हैं जिसके कारण भी सिर दर्द होना शुरू हो जाता है।

आइए अब जानते है की सिर दर्द को रोकने के लिए हमे कौन कौन सी बातो का ध्यान रखना चाहिए।

१. किसी भी दवाई को लगातार लेने से और उसको अचानक बन्द कर देने से सिर दर्द बहुत बढ़ सकता है इसलिए किसी भी दवाई को अचानक बंद ना करे डॉक्टर की सलाह लेकर ही बंद करे।

ज्यादा मात्रा में एल्कोहोल तथा बिना पानी के शराब का सेवन करने से सिर दर्द होने लगता है।

अत्यधिक तम्बाकू के सेवन से भी सिर दर्द होता है।
पर्याप्त मात्रा में नींद का पुरा ना होना।

शरीर में पानी की कमी होना इसीलिए दिन में 10-12 गिलास पानी जरुर पियें।
रोजाना कम से कम से 7-8 घण्टे की नींद लें और सुबह जल्दी उठे। तथा सोते समय तकिए का उपयोग नही करना चाहिए।

आइए अब जानते है सिर दर्द से छुटकारा पाने के लिए प्राकृतिक चिकित्सा एवं घरेलू उपाय।

पैर को गर्म पानी में डुबोकर रखने सिर दर्द मे राहत मिलती है। जिसे फूट बाथ कहा जाता है ऐसा करने से पैर सिर की रक्त वाहिनियों में दबाव कम होता है। अगर दर्द ज्यादा हो तो आप पानी में सरसों का तेल भी मिला सकते है।

सिर दर्द मे Hip bath एनिमा, मिट्टी की पट्टी , लेनी चाहिए। Hip bath और एनिमा कैसे ले उसकी वीडियो discription मे डाली हुई है वहा जा कर आप वीडियो को देख सकते हैं।

गर्दन के पीछे गरम पानी की थैली रखें इससे भी काफी राहत मिलती है।

सिर दर्द से छुटकारा पाने के लिए एक चम्मच अदरक के पाउडर में दो चम्मच पानी मिला लें। अब इस पेस्ट को माथे पर कुछ मिनट के लिए लगाकर रखें। ये दवा की तरह काम करता है। या फिर अदरक के पाउडर या कच्चे अदरक को पानी में उबाल लें। फिर इस पानी से कुछ मिनट तक भाप लेने की कोशिश करें।

पुदीने की मुट्ठीभर पत्तियों के जूस को माथे पर कुछ देर लगाकर रखने से भी इस से आराम मिलता है ।
सिर दर्द से छुटकारा पाने के लिए कुछ तुलसी की पत्तियों को चबाएं या फिर तुलसी के तेल को किसी आवश्यक तेल के साथ मिलाकर माथे पर मसाज करें। सिर दर्द से राहत पाने के लिए हस्त-पादासन , सेतुबन्धासन , शिशु-आसन , पश्चिमोतानासन ,पद्मासन , शवासन
करना चाहिए।