यात्रियों की सुविधा के लिए रेलवे द्वारा प्रारंभ की गई मेमू एक्सप्रेस ट्रेन यात्रियों को सुविधाओं के नाम पर ढकोसला साबित हो रही है यह ट्रेन आमला से इटारसी के बीच चल रही है लोगों को उम्मीद थी कि जितना प्रचार प्रसार और नेताओं ने इसका श्रेय लूटा है उतना किसी ट्रेन का नहीं लूटा लेकिन लोगों को उम्मीद थी कि यह ट्रेन नागपुर से भोपाल के बीच चलेगी जिससे प्रदेश की राजधानी भोपाल आने जाने में लोगों को सुविधा होगी वही नागपुर तक ट्रेन जाएगी तो लोग इलाज कराने इस ट्रेन से जा सकेंगे लेकिन उम्मीदों पर पानी फेरते हुए यह ट्रेन आमला और इटारसी के बीच चलाई जा रही है।

समय पर नहीं पहुंचती इटारसी

केवल एकमात्र ऐसी ट्रेन जिसमें लोगों को जनरल टिकट मिलने की सुविधा उपलब्ध है यह ट्रेन भी इटारसी समय पर नहीं पहुंचती है यात्री बताते हैं कि एक 1 घंटे तक इटारसी आने के पहले आउटर पर ट्रेन को खड़ा कर दिया जाता है काफी लंबे इंतजार के बाद अपने निर्धारित समय से एक घंटा की देरी से यह ट्रेन इटारसी पहुंचती है इतनी लेट इस ट्रेन के इटारसी प्लेटफार्म पर पहुंचने के कारण यात्री अपने आप को ठगा सा महसूस करते हैं।

लोगों की छूट रही ट्रेन

हरदा खंडवा मार्ग पर जाने वाले यात्रियों कि ट्रेन मेमू एक्सप्रेस ट्रेन के इटारसी समय पर नहीं पहुंचने के कारण छूट रही है कई यात्रियों ने बताया कि मेमू एक्सप्रेस ट्रेन आउटर पर घंटों खड़ी रहती है जिसके कारण उनके खंडवा हरदा जाने वाले ट्रेन छूट गई जिसके कारण वे परेशान हुए।

11 किमी का सफर डेढ घँटे में

मेमो एक्सप्रेस ट्रेन की एक और खासियत यह है कि रेलवे में स्टैंड फॉरमेमो एक्सप्रेस ट्रेन की एक खासियत यह है कि रेलवे ने इस ट्रेन को 11 किलोमीटर का सफर करने के लिए डेढ़ घंटे का समय दिया है ।अगर देखें तो यह ट्रेन 10:05 पर कीरतगढ़ स्टेशन पर पहुंचने का समय है और वहां से 11 किलोमीटर दूर इटारसी पहुंचने का निर्धारित समय 11:35 का दिया गया है अब इन 11 किलोमीटर में डेढ घंटे तक ट्रेन में बैठे बैठे यात्रियों के क्या हाल तोते हैं यह वही जानते हैं जो इस ट्रेन से सफर करते हैं ।लेकिन इस ट्रेन की समय सारणी बनाने वाले अधिकारियों ने कभी इस ट्रेन से सफर करके 11 किलोमीटर का सफर डेढ़ घंटे में करते तो उन्हें समय का महत्व समझ में आता की ट्रेन में यात्रा करने वाले लोग भी इंसान है और वह भी अपनी परेशानियों के कारण कहीं आना-जाना कर रहे होंगे । आज के आधुनिक युग में जब रेलवे बुलेट ट्रेन चलाने की और मेट्रो ट्रेन चला रहा है वह मध्य रेलवे में ऐसी भी स्थिति है कि 11 किलोमीटर का सफर डेढ घंटे में तय किया जा रहा है।

दादा धाम एक्सप्रेस शुरू करने का नही है ध्यान

यात्रियों ने बताया कि रेलवे द्वारा यात्रियों की सुविधाओं के नाम पर केवल प्रचार प्रसार किया जाता है लेकिन सच्चाई कुछ और ही है दादा धाम एक्सप्रेस जो की खंडवा भुसावल जाने वालों के लिए एकमात्र ट्रेन थी जिसके कारण यात्रियों को दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ता था ।इस ट्रेन से लोग हरदा खंडवा भुसावल की यात्रा करते थे। लेकिन कोरोना का कारण बंद की गई है यह ट्रेन अभी तक प्रारंभ नहीं की गई है। जिसके कारण यात्री परेशान हो रहे हैं लेकिन इस ट्रेन को प्रारंभ कराने के लिए जिम्मेदार लोग मोन बैठे हैं लोगों को बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। फिर भी दादा धाम एक्सप्रेस को अभी तक प्रारंभ नहीं किया गया है।