अर्जुन गोंदी मंदिर में बिराजे सफेद अकाव की जड़ के दुर्लभ गणपति।

घोड़ाडोंगरी – वैसे तो भगवान हर वस्तु एवं संपूर्ण प्राकृतिक में निवास करते हैं किंतु किसी विशेष जगह पर उनकी कलाकृतियां उबर कर आना ईश्वर के होने का प्रमाण साक्षात करती है। ऐसा ही एक नजारा घोड़ाडोंगरी के समीप कान्हा वाडी की ओर अर्जुन गोंदी मंदिर में विराजे गणपति मैं झलक रही हैं।

अर्जुन गोंदी मंदिर के पुजारी ने बताया कि नीमपानी के सफेद अकाव के पेड़ की फूलों की माला हमेशा से मंदिर में विराजे हनुमान जी दद्दा को चढ़ाते आए हैं उसी आकाओं के पेड़ की जड़ मैं गणपति जी की झलक उबर आने पर उसे लाकर मंदिर में स्थापना कर दी। मंदिर के पुजारी द्वारा बताया गया की जड़ों में इस प्रकार की कलाकृतियां एवं जिस समय गणपति जी विराजमान हो उस समय दिखाई देना बहुत ही शुभ होता है परंतु ऐसा दुर्लभ ही होता है।

गोविंद नामदेव