मुख्यमंत्री कोविड़-19 बाल कल्याण योजना
11 अनाथ बच्चों को मिला योजना का लाभ
     प्रदेश सरकार के निर्णय अनुसार कोरोना संक्रमण के दौरान 01 मार्च, 2021 से 30 जून, 2021 तक अनाथ हुए, देखरेख एवं संरक्षण की आवश्यकता वाले ऐसे बालकों जिनके माता-पिता दोनों अथवा माता-पिता में से किसी एक का पूर्व में निधन हो चुका है तथा अब दूसरे की कोविड-19 से या अन्य किसी भी कारण से 01 मार्च, 2021 से 30 जून, 2021 अवधि में मृत्यु हुई है, तो ऐसे बालकों को मुख्यमंत्री कोविड़-19 बाल कल्याण योजना का लाभ दिया जायेगा। योजनान्तर्गत ऐसे बालक अथवा बालिका जिनकी आयु 21 वर्ष या उससे कम है अथवा स्नातक में अध्ययनरत रहने की स्थिति में 24 वर्ष या स्नातक पाठ्यक्रम की निर्धारित अवधि तक 5,000 रूपये प्रतिमाह प्रत्येक बाल हितग्राही को सहायता राषि प्रदान की जायेगी। साथ ही प्रत्येक बाल हितग्राही या उसके संरक्षक को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत निःशुल्क मासिक राशन प्रदान किया जाएगा और बाल हितग्राही को निःशुल्क शिक्षा तथा उच्च शिक्षा भी प्रदान की जाएगी।
    जिले में कलेक्टर श्री नीरज कुमार सिंह के निर्देशानुसार मुख्यमंत्री कोविड़-19 बाल कल्याण योजना अंतर्गत सभी आवेदन दस्तावेजों सहित योजना के लिए निर्मित पोर्टल covidbalkalyan.mp.gov.in पर प्राप्त किये गये है। आवेदन की प्रक्रिया निःशुल्क है। इस योजना अंतर्गत जिले में ऐसे प्राप्त प्रकरणों में 11 प्रकरण स्वीकृत किये जाकर योजना का लाभ दिये जाने हेतु वरिष्ठ कार्यालय को प्रेषित किये गये हैं।
    इस आष्य की जानकारी में कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास श्रीमती सुनिता यादव ने बताया कि जिले के ग्राम बावड़ीखेड़ा जागीर खिलचीपुर के बाल हितग्राही रामेष्वर 19 वर्ष, कविता 16वर्ष, निर्मला 14वर्ष तथा पार्वती 10वर्ष को पिता भोलाराम एवं माता श्रीमती इंदराबाई, बदलीपुरा वार्ड क्रमांक 8 सारंगपुर के बाल हितग्राही रक्षा राठौर 10 वर्ष को पिता मनीष एवं माता नेहा,कोडक्या जीरापुर के बाल हितग्राही मोहित 13वर्ष एवं दीपिका 15वर्ष कोपिता महेन्द्रसिंह एवं माता घीसीबाई,नई कॉलोनी पड़ाना सारंगपुर के आदेश 17वर्षएवं पूजा 15वर्ष को पिता विष्णुप्रसाद कुम्भकार एवं माता संतोष, पिंजारा गली वार्ड नम्बर-10 ब्यावरा की रिहाना खान 16 वर्ष को पिता शाहरूख खान एवं माता फोजिया बानोतथा बंजारा मोहल्ला ग्राम सुस्तानी राजगढ़ के लखन सिंह 12 वर्ष  को पिता कुमेरसिंह एवं माता रोड़ी बाई की मृत्यु होने से अनाथ हो जाने के कारण योजनान्तर्गत 5-5 हजार रूपये प्रतिमाह प्रत्येक बाल हितग्राही के खाते में प्रेषित किए जाने की स्वीकृतियां जारी की गई हैं।