कोई ट्रक के पीछे जब हमारी गाडी होती है, तब कई बार ट्रक के पीछे लिखी रोचक शायरी पढने को मिलती है । किसी ने ‘ट्रकों पर कोरोना शायरी’’ की अनूठी पहल की है और यह कोरोना शायरी भी उसी रोचक और मौजी अंदाज में लिखी हैं । इसमें अनेक भावों के साथ वैक्सीन लगवाने और मास्क का निरंतर उपयोग करने के संदेश हैं।

“देखो मगर प्यार से….
कोरोना डरता है वैक्सीन की मार से”
—-
“मैं खूबसूरत हूं मुझे नजर न लगाना
जिंदगी भर साथ दूंगी, वैक्सीन जरूर लगवाना”
—-
“हंस मत पगली, प्यार हो जाएगा
टीका लगवा ले, कोरोना हार जाएगा”
—-
“टीका लगवाओगे तो बार-बार मिलेंगे
लापरवाही करोगे तो हरिद्वार मिलेंगे”
—-
“यदि करते रहना है सौंदर्य दर्शन रोज-रोज
तो पहले लगवा लो वैक्सीन के दोनों डोज”
—-
“टीका नहीं लगवाने से
यमराज बहुत खुश होता है।”

“चलती है गाड़ी, उड़ती है धूल
वैक्सीन लगवा लो वरना होगी बड़ी भूल”
—-
“बुरी नजर वाले तेरा मुंह काला
अच्छा होता है वैक्सीन लगवाने वाला”
—-
“कोरोना से सावधानी हटी,
तो समझो सब्जी-पूड़ी बंटी”
—-
“मालिक तो महान है, चमचो से परेशान है।
कोरोना से बचने का, टीका ही समाधान है।”