मंदसौर के पिपलिया मंडी में ज़हरीली शराब पीने से नागरिकों की मृत्यु की घटना के संबंध में मंत्रालय में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जी एवं वाणिज्यिक कर मंत्री श्री जगदीश देवड़ा जी,गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने उच्च स्तरीय बैठक की।

इस मामले में लापरवाही बरतने पर संबंधित TI एवं SI को निलंबित किया गया है। मंदसौर के जिला आबकारी अधिकारी को हटाकर उज्जैन अटैच किया गया।

बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैस, एसीएस होम श्री राजेश राजौरा, डीजीपी श्री विवेक जौहरी सहित अन्य उच्च अधिकारी मौजूद रहे।

प्रदेश के मंदसौर जिले में जहरीली शराब पीने से मौत का हुई है।मिली जानकारी के अनुसार पिपलिया मंडी निवासी अनिल जब मंगलवार को सुबह जगा तो उसकी आंखों की रोशनी चली गई। इसके बाद उसकी तबीतय बिगड़ गई। अनिल को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया है।

जहरीली शराब पीने से संदिग्ध मौतों का आंकड़ा अब तक 6 पहुंच गया है। वहीं कांग्रेस ने यहां जहरीली शराब पीने के बाद मौत होने वालों का आंकड़ा 10 बता रही है। सभी मामलों में परिजनों ने आरोप लगाया है कि मौत से पहले इन लोगों ने शराब पी थी।

इसके बाद ही मौत हुई है। बता दें कि रविवार को जहरीली शराब पीने से तीन लोगों की मौत हुई थी। वहीं अब तक यहां शराब पीने से 6 लोगों की मौत की बात कही जा रही है। हालांकि अभी तक प्रशासन ने इन मौतों के कारणों की पुष्टि नहीं की है।

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ट्वीट कर इस मामले में कार्यवाही की जानकारी दी है।