*पानी मे डूबने से दो छात्रों की मौत*

*मोरंड नदी मे हुआ हादसा*

*तारमखेड़ा के हनुमान मंदिर मे दर्शन करने गए थे छात्र*

*एक साथ उठी अर्थियाँ – एक साथ जली चिताऐं*

*प्रत्यक्षदर्शियों की छलक उठी आँखे*

*जितेन्द्र निगम – चिचोली*

*शाहपुर थाना क्षेत्र के छिंदी खापा गांव के पास मोरंड नदी में दो छात्रों की डूबने से दर्दनाक मौत हो गई . यह सभी छात्र धार्मिक स्थल तारमखेड़ा से हनुमान जी के दर्शन करके वापस लौट रहे थे.*

*जानकारी के मुताबिक चिचोली तहसील मुख्यालय के एक निजी स्कूल में 12वीं कक्षा में पढ़ने वाले आठ छात्रों का एक समूह तारमखेड़ा स्थित सुप्रसिद्ध हनुमान मंदिर में दर्शन करने गया था. दर्शन करने के बाद यह सभी छात्र चिचोली वापस लौट रहे थे . छिंदी खापा के पास मोरंड नदी के किनारे सभी खाना खाने के लिए रुक गए. इनमें से दो छात्र हर्ष पिता अनिल आर्य एवं दिव्यांश पिता जयप्रकाश आर्य नहाने के उद्देश्य से पानी में उतरे. लेकिन पानी मे गहराई अधिक होने से दोनों छात्र डूब गए. उल्लेखनीय है कि मोरंड नदी में अवैध रेत उत्खनन के कारण रेत माफिया ने जगह-जगह बड़े गड्ढे बना दिए हैं. इसी कारण छात्रों को पानी की गहराई का अंदाज नही लगा.*
*इस घटना के बाद साथी छात्रों ने ग्रामीणों की मदद से दोनों छात्रों को पानी से बाहर निकाला और चिचोली लाने की व्यवस्था की. लेकिन चिचोली पहुंचने से पहले ही दोनों छात्रों की मौत हो गई*.

*व्यापारी पिता के बेटे थे दोनों छात्र*

*इस दुर्घटना में काल कवलित हुआ हर्ष चिचोली शहर के प्रसिद्ध हार्डवेयर व्यापारी अनिल आर्य का सुपुत्र था. वही दिव्यांश आर्य अनाज व्यापारी जयप्रकाश आर्य के सुपुत्र थे. घटना की सूचना के बाद पूरे चिचोली शहर में मातम छा गया*

*दोनों छात्रों की माताएं हैं शिक्षिका*

*पानी में डूबने से अचानक मौत के मुंह में समाए हर्ष की माता श्रीमती मीनाक्षी आर्य जोगली के हाई स्कूल में एवं दिव्यांश आर्य की माँ रोशनी आर्य पाठाखेड़ा के स्कूल में शिक्षिका है. इस ह्रदय विदारक समाचार की खबर लगते ही शिक्षा जगत में भी शोक व्याप्त हो गया.*

*एक साथ उठी अर्थियाँ – एक साथ जली चिताऐं*

*शहर के गमगीन माहौल में सैकड़ों लोगों एवं छात्रों की उपस्थिति में दोनों छात्रों की अर्थियाँ एक साथ मोक्ष धाम पहुंची. यहां पर दोनों ही छात्रों के चिताओं को एक साथ सजाया गया. और एक साथ अग्नि दी गई. इस घटना को देखकर हर एक प्रत्यक्षदर्शी के नेत्र छलक उठे.*

*दो बहनों का अकेला भाई था हर्ष*

*जानकारी के मुताबिक हर्ष आर्य हार्डवेयर व्यापारी अनिल आर्य का एकमात्र सुपुत्र था. हर्ष की एक बड़ी और एक छोटी बहन है. हर्ष के अचानक चले जाने से दोनों बहनों का भाई छिन गया.*