*नदी में बहे तहसीलदार और पटवारी, मिला पटवारी का शव,सीहोर जिले की घटना*

सीहोर जिले में सीवन नदी में बाढ़ में कार सहित बह गए पटवारी का शव बुधवार सुबह करीब 8.30 बजे घटनास्थल से तीन किलोमीटर दूर ग्राम छापरी में बरामद कर लिया गया है। जबकि तहसीलदार नरेंद्र ठाकुर की तलाश अभी जारी है। बता दें कि मध्य प्रदेश नरेंद्र सिंह ठाकुर तहसीलदार संघ के अध्यक्ष हैं ।
घर से बाहर पार्टी करने का कहकर निकले तहसीलदार दो दिन बाद भी लापता हैं। उनके साथ पार्टी में जा रहे पटवारी का शव बुधवार को पुलिस को गांव छापरी खुर्द की नदी में मिला। मौके से तहसीलदार की कार भी पुलिस को मिल गई।
तहसीलदार दो दिन बाद भी लापता हैं। उनके साथ पार्टी में जा रहे पटवारी का शव बुधवार को पुलिस को गांव छापरी खुर्द की नदी में मिला। मौके से तहसीलदार की कार भी पुलिस को मिल गई। घटना एमपी के सिहोर जिले की है। तहसीलदार नरेंद्र सिंह ठाकुर शाजापुर जनपद की तहसील मोहनपुर बढ़ोदिया में पदस्थ थे। पुलिस के मुताबिक तहसीलदार नरेंद्र सिंह ठाकुर व पटवारी महेंद्र रजक सोमवार से लापता थे। तब से उनकी तलाश की जा रही थी। बुधवार को पुलिस टीम ग्रामीणों के साथ राहत व बचाव कार्य में जुटी थी।
इस बीच सूचना मिली कि, लापता तहसीलदार की कार छापरी खुर्द गांव की नदी में डूबी दिखाई दे रही है। पुलिस मौके पर पहुंची और कार सहित पटवारी महेंद्र रजक का शव बरामद किया।
तहसीलदार की पदस्‍थाना शाजापुर में, जबकि पटवारी नसरुल्‍लागंज में पदस्‍थ थे।सोमवार रात से लापता तहसीलदार व पटवारी की मंगलवार शाम को लोकेशन के आधार पर कर्बला पुल के पास सीवन नदी में सर्चिंग की जा रही थी, जिनका देर शाम तक कुछ पता नहीं चल सका था। बुधवार सुबह करीब 8.30 बजे घटनास्थल से तीन किलोमीटर दूर ग्राम छापरी में पटवारी महेंद्र रजक का शव व कार बरामद हुई है। जबकि तहसीलदार नरेंद्र ठाकुर की तलाश अभी जारी है। नरेंद्र सिंह ठाकुर।
तहसीलदार और पटवारी सोमवार रात अपने घर से कहीं पर खाना खाने जाने की कहकर कार से निकले थे, जब वह सुबह तक नहीं लौटे तो परिजनों ने मंडी थाने पहुंच कर गुमशुदगी की रिपार्ट दर्ज कराई। पुलिस ने मामले में मंगलवार को एफआइआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। वहीं सीसीटीवी फुटेज से मिली लोकेशन के आधार पर सीवन नदी पर बने कर्बला पुल के पास सर्चिंग अभियान चलाया गया था। हालांकि देर शाम तक कुछ पता नहीं चल सका था। तहसीलदार शुगर फैक्ट्री चौराहा और पटवारी हाउसिंग कृष्णा नगर सीहोर निवासी है।
तहसीलदार शाजापुर जिले की तहसील मोहनपुर बढ़ोदिया में पदस्थ है, जबकि पटवारी जिले की नसरुल्लागंज तहसील में पदस्थ था। तहसीलदार नरेन्द्र सिंह ठाकुर के बेटे ने थाने जाकर उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी, जिसमें बताया गया था कि सोमवार की रात को तहसीलदार और पटवारी अपने दोस्त महेन्द्र शर्मा व राहुल आर्य के साथ पार्टी करने रफीकगंज स्थित दोस्त तरुण सिंह के फार्म हाउस पर गए थे। तहसीलदार और पटवारी एक कार में सवार थे। इस सूचना के बाद मंडी थाना पुलिस सर्चिंग में जुटी हुई थी। बताया जा रहा है कि कर्बला पुल से इंदौर नाका के पास एक पेट्रोल पंप पर कार जाते हुए सीसीटीवी में कैद हुई थी, वहीं गणेश मंदिर के सीसीटीवी में कार आते हुए नहीं दिखी, जिससे संभावना के तौर पर कर्बला पुल के पास सीवन नदी में एनडीआरएफ का दल मंगलवार की शाम नदी में तलाश करता रहा, लेकिन बुधवार की सुबह 8.30 पर जब मंडी पुलिस और एनडीआरएफ का सर्चिंग दल नदी किनारे जांच करता हुआ करीब तीन किमी दूर ग्राम छपरी पहुंचा तो नदी में कार दिखी, जिसे निकालने पर पटवारी महेंद्र रजक का भी शव मिला, जबकि तहसीलदार नरेंद्र ठाकुर की तलाश अभी तक जारी है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.