जनपद पंचायत घोड़ाडोंगरी के आदर्श ग्राम बाचा  में निर्मित छोटी-छोटी जल संरचना लोगों के बीच प्रेरक संदेश दे रही है ।

आज के समय में पानी का महत्व सभी को समझ में आ गया है ।

हर जनमानस चाहता है कि पानी रोकने के लिए गांव गांव में कार्य होने चाहिए।

ग्राम पंचायतों के माध्यम से काार्य होने चाहिए।

जिससे गांव का पानी गांव में ही रुके ।

  गिरते जलस्तर में कमी ,अंकुश लग सके ।

क्षेत्र के आदिवासी नेता संतोष उइके का भी कहना है कि शासन को ग्राम पंचायतों के माध्यम से ऐसी छोटी-छोटी जल संरचना पूरे जनपद पंचायत क्षेत्र के हर ग्राम में बनवाने चाहिए ।

यही सही समय है जब इस तरह की जल संरचनाएं बनाकर बारिश के पानी को संरक्षित किया जा सकता है।

आदर्श ग्राम बाचा का जल संरक्षण प्रेरक हैं लेकिन इसे मॉडल बनाने की बजाय गांव गांव में ऐसे सार्थक काम होने चाहिए ।